Sunday, May 26, 2024
HomeHealth & FitnessSymptoms of depression & solution of depression:-

Symptoms of depression & solution of depression:-

डिप्रेशन ( Depression ) के लक्षण ( पहचान  )

कैसे पहचानें किसी भी व्यक्ति में डिप्रेशन के लक्षण,
डिप्रेशन को डिप्रेस्ड व्यक्ति की बातों से और सोच से समझा जा सकता है, इसे इस तरीके से समझें कि जो एक व्यक्ति सामान्य रूप से जीवन के बारे में महसूस करता है, |
वहीं अगर वह  निराशाजनक दृष्टिकोण, आत्म घृणा और अनुचित अपराध बोध जैसी बातें करता हैं, तो यह डिप्रेशन का संकेत हो सकता है |
डिप्रेशन को इन बातों से और सोच के आधार पर समझा जा सकता है,

* आत्मविश्वास में कमी होना
* एकाग्रता में कमी होना
* थकान महसूस होना और सुस्ती रहना
* भूख न लगना
* हर समय उदास रहना
* ठीक से नींद न आना
* उत्तेजना या शारीरिक चिंता रहना
* किसी काम में इन्टरस्ट न लेना
* किसी भी गलत कार्य की अनुभूति होना
* मादक ( नसीले ) पदार्थों का सेवन करना
* ख़ुदकुशी करने का ख़्याल आना 

डिप्रेस्ड व्यक्ति इस तरह की बातें कर सकते हैं, जैसे कि मुझे खुद से नफरत है, यह सारी मेरी गलती है, मैं बेकार हूं, मेरा जीवन व्यर्थ है, इस तरह की बातें अगर वह व्यक्ति बार-बार करते हैं, तो  यह डिप्रेशन का संकेत हो सकता है |
किसी व्यक्ति को जो कुछ करना पसंद है जिन चीजों से आनंद या खुशी मिलती है, तो व्यक्ति अब वह काम नहीं करता, जो उन्हें पहले पसंद थे |
जैसे खेल, म्यूजिक, डांस या कोई भी ऐसा काम जिसे करने में पहले वह खुश होते हैं, लेकिन अब वह उससे दूर भागते हैं, तो यह डिप्रेशन का संकेत हो सकता है |
डिप्रेशन ऊर्जा  की कमी या थकान  के साथ आता है, या  बहुत कम या बहुत अधिक नींद ना आना डिप्रेशन का संकेत हो सकता है |
अगर उन्हें हर समय थका हुआ और अनुचित नींद की शिकायत है, तो यह डिप्रेशन  का संकेत हो सकता है |
अनियंत्रित भावनाएं भी डिप्रेशन का संकेत हैं, यदि आप के सामने मिनट मिनट में, वह व्यक्ति गुस्से में आ जाता है | और अगले मिनट में रो रहा होता है, तो यह डिप्रेशन का संकेत हो सकता है, |
खुद पर विश्वास कम होना डिप्रेशन का संकेत है, अवसादग्रस्त लोग अपने और अपने भविष्य के बारे में बुरा महसूस करते हैं, यदि आपके प्रियजन में आत्मविश्वास और आशावाद की कमी है, तो यह डिप्रेशन का संकेत हो सकता है |
दर असल यह एक ऐसा रोग है जो शारीर‍िक रूप से स्वस्थ होने पर भी जानलेवा साब‍ित हो सकता है | अवसाद ड‍िप्रेशन को झेल रहे किसी भी व्यक्ति द्वारा खुदकुशी या आत्महत्या  जैसी खबरें अक्सर देखने और सुनने को मिलती हैं |
ऐसा क्यों होता है | कि कोई हंसता खेलता व्यक्ति डिप्रेशन के कारण जान दे देता है.

*- डिप्रेशन  | Depression | से बचने के उपाय 

यदि आपको डिप्रेशन से बचना है तो इस बारे में खुलकर बात करें, रोज़मर्रा की ज़िंदगी में छोटे-छोटे बदलाव लाते हुए ख़ुद को व्यवस्थित रखें | ख़ुद को और अपने शरीर को समय दें |
डिप्रेशन दूर करने के लिए आठ घंटे की पूरी नींद लेना चाहिए | नींद पूरी होगी तो दिमाग तरोताजा होगा और नकारात्मक विचार ( भाव ) मन में कम आएंगे |
प्रतिदिन कुछ देर सूरज की रोशनी का आनंद जरूर लेना चाहिए, इससे डिप्रेशन जल्दी दूर होने के चाइन्स होते हैं | घर से बाहर किसी गार्डन या खुले मैदान में घूमना ( टहलना ) चाहिए |

*सेक्सुअल चाहत को नजरंदाज न करें 

हालाँकि डिप्रेशन के समय लोग यौन आनंद को प्राप्त करने में 
संदेह महसूस करते हैं, | लेकिन बहूत से लोग यह स्पष्ट रूप से 
अनुभव के बाद मानते हैं |कि सेक्स से डिप्रेशन 
को दूर करने में मदद मिलती है |

इस समय जो हारमोंस स्त्रावित होते हैं वे डिप्रेशन को दूर करते हैं और मानसिक दबाव से राहत प्रदान करते हैं |

*अधिक अपेक्षाएं न पालें 

हर किसी से यह आशा न करें कि वह आपको समझे लोग अपनी जिंदगी दूसरों को खुश करने के लिए जीते हैं |
और इसमें असफल होने पर अपनी जिंदगी को डिप्रेशन और गम में डुबो लेते हैं | सबको खुश करना संभव नहीं है इसलिए अपनी संतुष्टि पर ध्यान दें बजाय दूसरों  पर अपेक्षित रहने के |

*मनोचिकित्सक से सलाह लें
डिप्रेशन  को दूर भगाने का सबसे मुख्य और आसान तरीका है कि आप मनोचिकित्सक की सलाह लें  |
मनोचिकित्सक की सलाह से आपको डिप्रेशन की जड़ तक जाने और इसे दूर करने में मदद मिलेगी।
*दूसरों को दोष न दें 
लोग अक्सर बुरी स्थिति में दूसरों को दोष देते हैं, वह मानते हैं कि ऐसा करने से सब कुछ ठीक हो जाएगा लेकिन ऐसा नहीं है , उन्हें  यह जानना जरूरी है |
कि जब वह चीज तुम्हारे नियंत्रण से बाहर है तो दूसरों को दोष देने से क्या फायदा |

*रोजाना व्यायाम करें 
व्यायाम डिप्रेशन को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है |  इससे न केवल एक अच्छी सेहत रहती  है बल्कि शरीर में एक सकारात्मक उर्जा का संचार भी होता है |
व्यायाम करने से शरीर में रक्त संचार व सेरोटोनिन और टेस्टोस्टेरोन हारमोंस का स्त्राव होता है जिससे दिमाग स्थिर होता है और डिप्रेशन देने वाले बुरे विचार दूर भागते हैं |

*योगा और ध्यान 
डिप्रेशन दूर करने के लिए कुछ लोग दवाइयों का सेवन करते हैं लेकिन योग के जरिए आप इन समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं | साथ में दवाइयाँ भी लेते रहें दवाइयाँ अपना काम करेंगी |
लेकिन योग और ध्यान अपना काम करता है योग और ध्यान मानसिकता को संतुलन में लाने का कार्य करता है और सारी चीजें मानसिक ही हिती हैं |
अगर मानसिकता ठीक नहीं है तो दवाइयाँ भी काम नहीं करती |
डिप्रेशन को प्राणायाम से भी खत्म कर सकते हैं |
डिप्रेशन यानी मन  का असहयोग, यानी प्रकृति से पर्चित न हो पाना या जीवन से आस्था उठ जाना |  डिप्रेशन यानी जीने का नकारात्मक रवैया, होना स्वयं से अनुकूलन में असमर्थता आदि |
जब व्यक्ति डिप्रेस्ड हो जाता है तो उस व्यक्ति विशेष के लिए सुख, शांति, सफलता, खुशी यहां तक कि संबंध तक बेकार लगने लगते हैं |
उसे हर तरह निराशा, तनाव, अशांति, अरुचि का ही आभास होता है | यदि ऐसा थोड़े से समय के लिए हो तो उसे स्वाभाविक या व्यावहारिक मा जाता है, |
किन्तु  यह मनःस्थिति और मानसिकता अगर लगातार  बनी रहे तो परिणाम निश्चित तौर पर घातक हो सकते हैं |  यह प्रतिकूलता व्याधि और विकृति को जन्म देती है  |
ऐसा व्यक्ति जीवन तक को नकार सकता है  | वह पहले समाज, फिर परिवार और अंत में स्वयं से कटने लगता है | ‘डिप्रेशन’ का कारण वातावरण परिस्थिति, स्वास्थ्य, सामर्थ्य, संबंध या किसी घटनाक्रम से जुड़ा हो सकता है |
शुरुआत में व्यक्ति को खुद नहीं मालूम होता, किंतु उसके व्यवहार और स्वभाव में धीरे-धीरे परिवर्तन आने लगता है, कई बार बहुत अधिक चिड़चिड़ापन, अहंकार, कटुता या आक्रामकता अथवा नास्तिकता,
और अपराध अथवा एकांत की प्रवृत्ति पनपने लगती है या फिर व्यक्ति नशे की ओर उन्मुख होने लगता है | ऐसे में जरूरी है कि हम किसी मनोचिकित्सक से संपर्क करें |
कुछ लोग परेशानियों को अपने ऊपर हावी कर लेते हैं, और इनसे पीछा नहीं छुटा पाते हैं, यही स्थिति लगातार बने रहने पर वे लोग डिप्रेशन में चले जाते हैं |

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments